muzaffarpur-juction.-e1484549685436

मुशहरी प्रखंड के रजवाड़ा में बूढ़ी गंडक पर बने तटबंध के देर रात टूटने से भारी तबाही मच गई। प्रखंड के पांच दर्जन से अधिक गांवों में देर रात बाढ़ का पानी प्रवेश कर गया। इससे चार लाख से अधिक की आबादी चपेट में आ गई है। पानी धीरे-धीरे बढ़ रहा है। उसे तोड़ने के आरोप में मुशहरी थाने में राधानगर की मुखिया के पति रामबाबू सहनी पर प्राथमिकी दर्ज कराई गई है। वहीं नगर निगम क्षेत्र के वार्ड नंबर 45 से लेकर 49 तक पानी प्रवेश की संभावना को लेकर अलर्ट कराया गया है। इन क्षेत्रों में माइकिंग की जा रही है। हालांकि, टूटे बांध की मरम्मत का कार्य युद्धस्तर पर शुरू कर दिया गया है। वहीं रोहुआ व कई अन्य जगहों पर पुलिया पर दबाव बढ़ता जा रहा है। इससे उसके टूटने की आशंका बनी हुई है।

उधर, रविवार की सुबह घटनास्थल का नगर विकास एवं आवास मंत्री सुरेश कुमार शर्मा ने निरीक्षण कर मरम्मत कार्य में तेजी लाने का निर्देश दिया। साथ ही पीड़ित परिवारों के खाने व रहने की शीघ्र व्यवस्था करने को कहा। वहीं दोपहर बाद जल संसाधन विभाग के प्रधान सचिव अरुण कुमार सिंह ने भी अभियंताओं की टीम के साथ स्थिति का स्लुइस गेट के पास बीते दो दिनों से रिसाव हो रहा था। वहीं से शनिवार देर रात करीब पौने एक बजे 50 फीट में बांध टूट गया। पानी का बहाव इतना तेज था कि उसका लोहे का गेट और उस पर बना पुल भी बह गया। ग्रामीणों का कहना था कि अगर समय रहते प्रशासन सचेत होता तो बांध नहीं टूटता। बांध दो वर्ष पहले ही बना था। लिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *